दो साल बाद बिहार को मिलेगा बड़ा सौगात 7 हजार करोड़ की लागत से आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे हो जायेगा बनकर तैयार

बिहार में आमस-दरभंगा करीब 199 किमी लंबाई में ग्रीन फील्ड एक्सप्रेस- वे का निर्माण करीब 6927 करोड़ रुपये की लागत से दो साल बाद 2024 में पूरा किया जाना है | इसके लिए जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया चल रही है. फिलहाल गया जिले में अधिगृहीत भूमि के मुआवजा के भुगतान में तेजी लाने का निर्देश दिया गया है. वहीँ बिहार के वर्तमान पथ निर्माण मंत्री नितिन नविन ने मई 2022 तक 70 प्रतिशत मुआवजा भुगतान करने का लक्ष्य निर्धारित किया है. यह सड़क बिहार के गोपालगंज-किशनगंज एनएच को स्वर्णिम चतुर्भुज मोहनिया-डोभी एनएच से जोड़ेगा. साथ ही झारखंड बार्डर से नेपाल बॉर्डर को जोड़ेगा |

यह भी पढ़ें  बिहार के बिहटा, फतुहा व रक्सौल में बनेंगे लॉजिस्टिक पार्क, जानिये क्या होगी खासियत....

जानिये कितनी होगी सड़क की लम्बाई :

जानकारी के मुताबिक यह आमस-दरभंगा एक्सप्रेस-वे का निर्माण चार चरणों में करने की केंद्र सरकार ने मंजूरी देकर राशि स्वीकृत कर दी है. पहले चरण में आमस-शिवरामपुर खंड पर करीब 55 किमी लंबाई में निर्माण के लिए 1390 करोड़ की स्वीकृति दी गयी है. इसी तरह दूसरे चरण में शिवरामपुर-रामनगर खंड की लंबाई करीब 54.30 किमी होगी. इसके निर्माण पर करीब 1494.31 करोड़ रुपये की लागत आयेगी. तीसरे चरण में करीब 1857 करोड़ की लागत से समस्तीपुर के कल्याणपुर से दरभंगा के बलभद्रपुर तक बनने वाली सड़क की लंबाई करीब 45 किमी होगी |

कोइलवर पुल के तीन लेन का लोकार्पण शनिवार को केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से करेंगे. एनएच 30 (922) पर बने इस पुल की लंबाई करीब 1528 मीटर और लागत करीब 266 करोड़ रुपये है. इसके साथ ही नये कोइलवर पुर के छह लेन से होकर यातायात शुरू हो जायेगा. इस पुल का लोकार्पण होने से कोइलवर और अब्दुल बारी पुल सहित इससे संबंधित आरा-पटना एनएच 30, आरा-छपरा गंगा पुल रोड समेत अन्य लिंक रोड में लगने वाले जाम से राहत मिलेगी |

यह भी पढ़ें  अच्छी खबर : बिहार में नहीं होगी बालू की किल्लत, खनन में डेढ़ महीने से अधिक का विस्तार, और गिरेंगे भाव

साभार : प्रभात खबर