बिहार के छपरा में 70 साल के दादाजी ने की धूम-धाम से दूसरी शादी, बेटा पोता नाती बने बाराती

अक्सर सोशल मीडिया पर कुछ न कुछ वायरल देखने को मिलता है | इन्टरनेट की दुनिया है तुरंत में कोई चीज पुरे दुनिया में फ़ैल जाता है | अब पिछले एक दो दिनों से बिहार के छपरा से एक शादी की विडियो वायरल हो रही है | इस शादी में खास बात यह है कि एक 70 साल के बुज़ुर्ग ने की है दूसरी शादी बता दे कि इस बुजुर्ग आदमी के एक बेटा एवं सात बेटिया है | इनके पोता-पोती एवं नाती-नतनी भी है |

गाना-बजाना के साथ हुआ शादी :

इस शादी में सात बेट‍ियों और 1 बेटे के साथ पूरा गांव बाराती बना हुआ था. सभी बैंड-बाजा और डीजे की धुन पर थिरक रहे थे. पूरा गांव जश्‍न में डूबा हुआ था. इस अनूठी शादी को देखने के लिए बड़ी तादाद में लोग जुटे थे. बुजुर्ग दंपति भी इससे काफी खुश थे. जानकारी के मुताबिक, छपरा में गुरुवार को एक अनोखी बारात निकली. 70 साल के एक बुजुर्ग की बारात में उसकी 7 बेटियां और एक बेटा के साथ पूरा गांव बाराती बना हुआ था. |

यह भी पढ़ें  रामायणी को आया पुरे बिहार में पहला स्थान बनना चाहती है पत्रकार बोली-उम्मीद से कम आया अंक

दरअसल, एकमा के आमदाढ़ी निवासी राजकुमार सिंह की शादी 42 साल पहले 5 मई को ही हुई थी, लेकिन पत्नी का दोंगा (गौना) नहीं हुआ था. दोंगा वह रस्म है जिसमें पत्नी का मायके से अपने पति के घर दूसरी बार जाना होता है. इस रस्म को राजकुमार सिंह और उनके संतानों ने इस कदर यादगार बना दिया, जिसे कोई नहीं भूल सकता है.

छपरा में एक शख्स शादी के 42 वर्ष पहले हुई थी. अब वह चार दशक से भी ज्‍यादा समय के बाद पत्नी का दोंगा कराने रथ पर सवार होकर निकले. जिले के एकमा थाना के आमदाढ़ी में धूमधाम के साथ 70 साल के बुजुर्ग की बारात निकली तो देखने वाले दांतों तले उंगली दबाने को मजबूर हो गए.

यह भी पढ़ें  बिहार में तीन दिन के अन्दर पूरी तरह से सक्रिय हो जाएगा मानसून आएगा आंधी के साथ भारी बारिश

दूल्हा बने राजकुमार सिंह ने बताया की 42 साल पूर्व उनकी शादी में मांझी थाने के नचाप गांव से बारात आमदाढ़ी आई थी. शादी के बाद वह कभी अपने ससुराल आमदाढ़ी नहीं गए थे और न कभी दोंगा ही हुआ था. उन्‍होंने बताया कि उनकी बेटियों और बेटा ने मिलकर 42 वर्ष के बाद दोंगा की रस्म को पूरा किया.

राजकुमार सिंह अपने गांव में आटा-चक्की चलाते हैं. काफी संघर्ष कर उन्होंने अपनी 7 बेटियों को बिहार पुलिस और सेना में नौकरी दिलाई. साथ ही बेटे को इंजीनियर बनाया. बच्चों की जिद के आगे राजकुमार सिंह को झुकना पड़ा और दूल्हा बनकर बारात के साथ निकल पड़े अपनी पत्नी को दुबारा विदा कर घर लाने के लिए. अपने दूल्हे का यह अंदाज पत्नी को भी काफी पसंद आया. वहीं, बच्चों ने भी राजकुमार सिंह के प्रयासों की सराहना की जिसके बदौलत आज वे इस मुकाम पर हैं. राजकुमार सिंह की दूसरी शादी

यह भी पढ़ें  बिहार में सोना के बाद अब इन दो जिले में मिला तेल का भंडार, सीएम नीतीश ने दी खोजने की अनुमति