बिहार के क्रिकेटर सकीबुल गनी ने रणजी डेब्यू में ट्रिपल सेंचुरी जड़ बनाया रिकॉर्ड, माँ का सपना हुआ पूरा

Sakibul Gani Triple Century: कोलकाता के जाधवपुर विश्वविद्यालय मैदान में खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी मैच में बिहार के पूर्वी चम्पारण जिले के लाल सकीबुल गनी (Sakibul Gani) ने अपने डेब्यू मैच में ही तिहरा शतक जड़ते हुए इतिहास रच दिया। इसके साथ ही वो ऐसा करने वाल पजल बल्लेबाज़ बन चूका अहि | उन्होंने बिहार टीम की ओर से मिजोरम के खिलाफ खेलते हुए 405 गेंद में 341 रन (56×4 व 2×6) की शानदार पारी खेली।

Sakibul Gani की पारी की बदौलत बिहार ने प्रथम पाली में 148.5 ओवर में 609 रन का विशाल स्कोर खड़ा कर दिया। रणजी ट्रॉफी के इतिहास में यह पहला अवसर है कि जब किसी बल्लेबाज ने तिहरा शतक लगाया हो। साथ ही रणजी ट्रॉफी के डेब्यू मैच में सबसे बड़ा स्कोर का राष्ट्रीय कीर्तिमान भी सकीबुल गनी ने अपने नाम कर लिया। इसके पहले यह कीर्तिमान मध्य प्रदेश के बल्लेबाज अजय रोहेड़ा के नाम था। अजय ने 2018 में अपने डेब्यू मैच में हैदराबाद के खिलाफ नाबाद 267 रन बनाए थे।

यह भी पढ़ें  बिहार के सोन नदी पर बने रेलवे ब्रिज पर एक साथ 5 ट्रेनों का हुआ परिचालन देखे विडियो

लगातार कर रहे है शानदार प्रदर्शन :

उन्होंने वर्ष 2015 में अंडर-14, 2016-17 में अंडर-19 तथा 2017 व 18 में बिहार अंडर-23 के अलावा 2019 व 2021 के विजय हजारे सीनियर ट्रॉफी, 2020 में चेन्नई और 2021 में दिल्ली में आयोजित आयोजित मुश्ताक अली (20-20) व विजय हजारे(50-50) ट्रॉफी में भी बेहतर प्रदर्शन किया था। सकीबुल बिहार अंडर-23 के लिए 306, 281 व 147 रन की जबरदस्त पारी खेल चुके हैं। वहीं विजय हजारे टूर्नामेंट में खेलते हुए बिहार के लिए 113 व 94 रन तथा मुश्ताक अली टूर्नामेंट में भी एक अर्द्धशतकीय पारी खेली है। साथ ही कई अवसर पर गेंदबाजी का भी दमखम दिखाया है।

यह भी पढ़ें  बिहार : आंगनबाड़ी सहायिका भर्ती : मेरिट के आधार पर होगी आंगनबाड़ी सेविका-सहायिका भर्ती, महिलाओं को मिला अवसर

सकीबुल की माँ इस उसके इस प्रदर्शन से काफी खुश है | वो कहती है की आजन मेरा सपना सच हो गया | मै अपने बेटे को मैच खेलने के लिए अपना गहना गिरवी रखकर बेटे के लिए बैट खरीदी थी | वहीँ आपको बता दे कि सकीबुल की मां ने बताया कि परिवार में इसकी जानकारी किसी को भी नहीं थी। सकीबुल का बैट देते हुए उसकी मां ने कहा था, जा.. बेटा तीन बैट दे रही हूं । तीन शतक लगाकर आना। और उसने मेरी बात सच कर दिखाया।