बिहार : शहरी इलाकों को मिलेगा जाम से निजात, सरकार ने इंजीनियरों से मांगी रिपोर्ट

दोस्तों आमतौर पर अक्सर देखने को मिलता है कि हमारा शहर जाम की वजह से काफी परेशान रहता है खासकर हमारी राजधानी पटना इसको देखते हुए सरकार अब एक अच्छी कदम उठाने जा रही है जी हाँ दोस्तों आपको बता दे कि अब बिहार के लोगों को जाम की समस्या से मुक्ति मिल जायेगी सरकार ने इसके लिए अपनी तरफ से पूरी योजना तैयार कर ली है |

दरअसल री इलाकों को जाम से निजात दिलाने के लिए वृहद जिला पथों (एमडीआर) को और चौड़ा किया जाएगा। पथ निर्माण विभाग उन सड़कों को चिह्नित करने में जुट गया है | बिहार सरकार इस प्लान में है की चिन्हित सड़कों को कमसे कम दो लेन चौड़ा किया जाएगा अगर जरूरत पड़ी तो दो लेन से भी अधिक चौड़ा किया जाएगा |

यह भी पढ़ें  बिहार बोर्ड 10वीं टॉपर : औरंगाबाद की बेटी रामायणी बनी बिहार टॉपर लाई पहला स्थान, बनना चाहती है पत्रकार

सड़कों की चौड़ाई बढ़ाने के लिए विभाग ने प्रारम्भिक स्तर पर तैयारी शुरू कर दी है। इंजीनियरों से रिपोर्ट मांगी गई है कि किस सड़क पर यातायात घनत्व का दबाव अधिक बढ़ा है। उन सड़कों को चौड़ा करने में जमीन की समस्या किस हद तक है। अगर जमीन अधिग्रहण कम करना पड़े तो उसे तत्काल चौड़ा किया जाएगा। राज्य में अभी विभाग के अधीन 15 हजार 273 किलोमीटर एमडीआर है। इन सड़कों की अलग-अलग चौड़ाई है।

सिंगल लेन की सड़कें 6254.05 किलोमीटर हैं, जो कुल एमडीआर का 41.78 फीसदी है। इन सड़कों की अधिकतम चौड़ाई 3.75 मीटर है। एमडीआर में सबसे अधिक इंटरमीडिएट लेन सड़कें हैं। इस श्रेणी की सड़कों की कुल लंबाई 6341.47 किलोमीटर है, जो कुल सड़कों का 42.36 फीसदी है। इन सड़कों की चौड़ाई 5.50 मीटर है। वहीं दो लेन वाली सड़कों की कुल लंबाई 2092 किलोमीटर है। कुल सड़कों का यह 13.98 फीसदी है। इसकी चौड़ाई 7 मीटर होती है।

यह भी पढ़ें  राजधानी पटना में बनेंगे एलिवेटेड रोड, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, गया और भागलपुर को मिलेगी रिंग रोड की सौगात

पेब्ड शोल्डर के साथ दो लेन वाली सड़कों की चौड़ाई 10 मीटर होती है। वहीं, दो लेन से अधिक यानी चार लेन वाली सड़कों की कुल लंबाई 281.76 किलोमीटर है। इस श्रेणी की भागीदारी कुल एमडीआर में मात्र 1.98 फीसदी है। इसकी चौड़ाई कम से कम 14 मीटर होती है। विभाग ने वित्तीय वर्ष 2021-22 में विभिन्न योजनाओं मसलन राज्य योजना, गैर योजना, नाबार्ड, आरसीपीएलडब्ल्यूईए, सीआरएफ, इंडो नेपाल बॉर्डर रोड परियोजना के तहत 1096.21 किलोमीटर वृहद जिला पथों का उन्नयन/ नवीकरण कार्य किया है। आगामी वित्तीय वर्ष 2022-23 में इससे अधिक सड़कों का उन्नयन किया जाएगा।

साभार : hindustan