बिहार के सैकड़ों सरकारी स्कूल हो बंद करने की तैयारी में सरकार, जानें इन स्‍कूलों में बहाल शिक्षकों का क्‍या होगा….

दोस्तों बिहार के शिक्षा वयवस्था को लेकर हमेशा सवाल उठते रहता है लेकिन इस बार मामला कुछ अलग है जी हाँ दोस्तों दरअसल बात कुछ ऐसी है कि बिहार में सैकरों स्कूल को बंद करने के प्लान में है बिहार सरकार बिहार सरकार इस काम को अंजाम देने के लिए अपनी तरफ से पूरी तैयारी में जुटी हुई है | बता दे कि बिहार सरकार उन स्कूल का अस्तित्त्व खत्म करेगी |

जिनका खुद का का भवन नहीं है और किसी अन्य स्कूल के परिसर में उस स्कूल का संचालन किया जा रहा है | ऐसे स्कूल को बिहार सरकार अब खत्म करने जा रही है | इस क्रम में जहां ज्यादा शिक्षक होंगे, उन्हें जरूरत वाले विद्यालयों में स्थानांतरित किया जाएगा। शिक्षा विभाग ने इस फैसले पर अमल करना शुरू कर दिया है। और जल्द से जल्द काम भी शुरू क्र दिया जाएगा |

यह भी पढ़ें  बिहार में रसगुल्ले की वजह से दर्जनों ट्रेनें हुई कैंसिल, 100 का रूट डायवर्ट, जानिये क्या है पूरा मामला !

वहीँ आपको जानकारी के लिए बता दू कि शिक्षा विभाग के एक वरीय अधिकारी ने बताया है कि 18 जिलों से एक ही भवन में संचालित एक से अधिक विद्यालयों के बारे में जानकारी मांगी है। उन्होंने सोमवार को संबंधित जिला शिक्षा अधिकारियों को पत्र भी लिखा है और सप्ताह भर में जानकारी देने को कहा है। वैसे अभी तक लगभग 20 जिलों से इसकी रिपोर्ट आ भी गई है। जिसमे कुछ इस प्रकार है :-अररिया, अरवल, औरंगाबाद, बेगूसराय, गोपालगंज, कैमूर, कटिहार, खगड़ि‍या, किशनगंज, मुजफ्फरपुर, नालंदा, नवादा, पूर्वी चंपारण, समस्तीपुर, सारण, शिवहर, सिवान और वैशाली से रिपोर्ट नहीं मिली है। जिसको लेकर काम चल रही है और जल्द से जल्द रिपोर्ट देने की मांग इन जिलो से की जा रही है |

यह भी पढ़ें  Bihar Weather : बिहार पंहुच गया मानसून बदलने लगा मौसम अब सभी जिले में होगी बारिश

बिहार के अक्सर स्कूल का यह हाल है | खासकर शहरी क्षेत्र के स्‍कूलों में ऐसी दिक्‍कत अधिक है। एक स्‍कूल के भवन में कहीं-कहीं तो चार से पांच तक स्‍कूलों का संचालन हो रहा है। ऐसे स्‍कूलों में अव्‍यवस्‍था और हंगामा होना आम बात है। सरकार ने ऐसे स्‍कूलों को भवन और जमीन उपलब्‍ध कराने की काफी कोशिश की। इसके बावजूद मसला नहीं सुलझने पर यह तय किया गया कि एक भवन में चलने वाले सभी स्‍कूलों को आपस में मर्ज कर दिया जाए। इससे प्रधान शिक्षक और प्रधानाध्‍यापक के पद घटेंगे।