बिहार के सरकारी स्कूलों में पढाई करना हुआ महंगा अब इस काम के लिए इतना देना होगा शुल्क

दोस्तों महंगाई का मार सिर्फ पेट्रोल-डीजल एलपीजी गैस तक ही नहीं सिमित है बल्कि महंगाई अब सरकारी स्कूल पर भी भारी पर रहा है | और अब लोगों को सरकारी स्कूल में भी पढना महंगा हो गया है | जी हाँ दोस्तों आपको बता दे कि बिहार में सरकारी स्कूल के माध्यमिक और उच्च माध्यमिक विद्यालयों में विद्यार्थियों का प्रवेश शुल्क बढ़ाकर 50 रुपये कर दिया गया है। अब-तक यह शुल्क क्रमश: 20 रुपये और 15 रुपये था। इसी प्रकार विकास शुल्क के रूप में माध्यमिक विद्यालयों में 80 रुपये को यथावत रखते हुए उच्च माध्यमिक विद्यालय में यह शुल्क 160 से 200 रुपये कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें  बिहार के पढ़े-लिखे लोगों के लिए अच्छी खबर : SSC में इन पदों पर निकली बंपर बहाली, जानिये योग्यता

वहीँ अगर हम माध्यमिक की बात करें तो इसमें मनोरंजन शुल्क को 10 से बढ़ाकर 20, विद्युत शुल्क को 10 से 20 और विद्यालय रखरखाव के रूप में 50 रुपये नया शुल्क लगाया गया है। उच्च माध्यमिक विद्यालय में मनोरंजन शुल्क को 20 से बढ़ाकर 60, विद्युत शुल्क को 60 से बढ़ाकर 80 तथा रखरखाव शुल्क को यथावत 150 रखा गया है। 

आदेश के मुताबिक मनोरंजन शुल्क में भी इजाफा करते हुए 10 रुपये से बढ़ाकर 20 रुपये किया गया है जबकि विद्यालय रखरखाव के लिए अलग से 50 रुपये शुल्क तय किये गए हैं. उच्च माध्यमिक की बात करें तो यहां मनोरंजन शुल्क को 3 गुणा बढ़ाते हुए 60 रुपये किया गया है जबकि विद्युत शुल्क को 60 से बढ़ाकर 80 किया गया है साथ ही रखरखाव शुल्क में बदलाव नहीं करते हुए 150 रुपये ही रखा गया है. छात्रों को अब परिचय पत्र के लिए भी शुल्क देय होंगे जो कि पहले मुफ्त में प्रदान किया जाता था |

यह भी पढ़ें  बिहार के बड़हिया स्टेशन पर अगले माहीने से हजनसेवा पाटलिपुत्र एक्सप्रेस समेत रुकेगी 10 से अधिक ट्रेनें