चंद घंटो में बिहार से नेपाल पंहुचेंगे यात्री, इस रूट पर एक और रेल लाइन का होगा निर्माण।

बिहारवासी के लिए अच्छी खबर है खासकर नेपाल का सफर करने वाले लोगों के लिए बेहद खास खबर है जी हाँ दोस्तों आपको बता दे कि अब बिहार से भी काठमांडू, जनकपुर धाम मात्र दो से ढाई घंटे में जा सकेंगे लोग वहीँ बीते दिन 2 अप्रैल को भारत और नेपाल के लिए ट्रेन का शुभारम्भ भारत के प्रधान मंत्री नरेन्द्र मोदी एवं नेपाल के प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउवा ने किया था | जो कि चल भी रहा है आप मात्र साढ़े बारह रुपया में जय नगर से नेपाल जा सकेंगे |

वहीँ इन सब के अलावा एक और रूट की बात चल रही है वह रूट है जोगबनी से जयनगर जिसका भी निर्माण कार्य तीव्र गति से चल रहा है | 80% से ऊपर काम हो चुके है अंतिम चरण में काम उस रेलवे रूट का बचा हुआ है | वहीं बिहार से नेपाल की यात्रा करने के इच्छुक यात्रियों के लिए एक और खुशखबरी है क्योंकि प. चंपारण के रक्सौल से लेकर काठमांडू तक रेल लाइन का निर्माण किया जाएगा। इसके लिए तीसरे चरण के सर्वे का काम चल रहा है।

यह भी पढ़ें  बिहार के बरौनी में आज मुख्यमंत्री नितीश कुमार और मंत्री शाहनवाज़ हुसैन ने किया पेप्सी प्लांट का उद्घाटन

लगभग 18 हजार करोड़ की लागत से हो रहा मिर्माण :

दरअसल रक्सौल (बिहार) काठमांडू तक रेल लाइन परियोजना में लगभग 18 हजार करोड़ के आस-पास रुपया का अनुमान लगाया गया है | और इस रेलवे लाइन में कहे तो इ रूट पर करीब 13 स्टेशन मिलना है जिसमे रक्सौल, बीरगंज, बगही, पिपरा, धूमरवाना, काकड़ी, चंद्रपुर, धीयाल, शिखरपुर, सिसनेरी, सथिकेल और काठमांडू का नाम शामिल है। इसके साथ ही 136 किलोमीटर लंबाई वाले रेल लाइन में 32 रोड ओवरब्रिज, 39 छोटी-बड़ी सुरंगें, 41 बड़े रेल पुल, 53 अंडरपास, 259 छोटे पुल भी होंगे। का भी इन सब की कुल लंबाई 41.87 किलोमीटर है।

यह भी पढ़ें  यात्रिगन कृपया ध्यान दें! बिहार से चलने वाली ये ट्रेनें आज रहेंगी रद्द !

दो घंटे में कर सकेंगे नेपाल का सफर किराया भी कम :

रक्सौल से काठमांडू अगर सड़क मार्ग से जाएगें तो करीब 150 किलोमीटर की दूरी तय करनी होगी। वहीँ अगर अब ट्रेन सेवा बहाल कर दी जायेगी तो बहुत दुरी घट जायेगी लगभग 15 किलोमीटर के आस-पास दुरी कम हो जायेगी तो वह दुरी 136 किलोमीटर के आस-पास हो जायेगी |

बता दें कि मौजूदा हालात में नेपाल जाने के लिए निजी वाहन या बस की ही सुविधा है। रक्सौल से काठमांडू के बस का किराया की बात की जाए तो करीब 600 रुपये (भारतीय मुद्रा) है। वहीं ट्रेन के टिकट की बात की जाए तो ज़्यादा से ज़्यादा 200 रुपये का टिकट होने की उम्मीद जताई जा रही है। वहीँ पहले लोगों को 6 घंटे का लम्बा सफर करना होता था जो कि अब मात्र दो से ढाई घंटे में अपना सफर पूरा कर सकेंगे |

यह भी पढ़ें  बिहार में तीन दिन के अन्दर पूरी तरह से सक्रिय हो जाएगा मानसून आएगा आंधी के साथ भारी बारिश

इन जगह के लोगों को मिलेगा अधिक लाभ :

पटनासदर,सम्पतचक,फुलवारीशरीफ,फतुहा, दनिआवा,खुसरूपुर,अथमलगोला,बेलछी,घोसवरी,पंडारक,बख्तियारपुर,बाढ़,मसौढ़ी,पुनपुन,धनरुआ,दानापुर,मनेर,बिहटा,नौबतपुर .पालीगंज,दुलहिनबजार,बिक्रम,बक्सर,इटाढ़ी,राजपूर,चौसा,नावानगर,डुमराव,सिमरी,चौगाई,चक्की,केसठ,ब्रहमपुर,अगिआँवबड़हरा,कोईलवर,उदवंतनगर,सन्देश,शाहपुर,बिहिया,जगदीशपुर,तरारी,चरपोखरी,पीरो,गड़हनी,सहार सहित बिहार के तमाम लोगों को बुलेट ट्रेन सुविधाजनक साबित होगी |