बड़ी खबर : राजधानी पटना की सड़कों पर आज से नहीं चलेगी डीजल से चलने वाली बस और ऑटो

दोस्तों देश का सबसे प्रदूषित शहर अभी दिल्ली को माना जाता है तो वहीँ दुसरे नंबर पर पटना है बता दे कि प्रदुषण को कम करने के लिए सरकार अपनी और से कोई कसर नहीं छोडती है | एक बार फिर से बिहार सरकार ने पटना में बढ़ते प्रदुषण को देखते हुए एक बड़ा निर्णय लिया है बता दे कि निर्णय यह है कि अब आज यानि 1 अप्रैल से पटना की सड़कों पर डीजल से चलने वाली कोई ऑटो या बस नहीं चलेगा | अगर कोई ऑटो या बस ड्राईवर ऐसा करता है तो उसको कानून के उलंघन करने के चलते जुर्माना और जेल भी हो सकता है |

यह भी पढ़ें  बिहार के इन तीन जिलों में 200 करोड़ की ज्यादा के लागत से बनेगी शानदार सड़क, केंद्र ने दी मंजूरी

इसको लेकर प्रशाशन ने पहले से ही इस बात को लेकर सभी ऑटो एवं बस ड्राईवर को सचेत कर दिया है | लेकिन सरकार के इस निर्णय से ऑटो संघ ना खुश है और वो सरकार के इस निर्णय का विरोध करते है | उनका सरकार से मांग है कि उन लोगों को डीजल वाले बस या ऑटो को cng में कन्वर्ट करने के लिए कुछ दिनों कोर समय चाहिए | और संघ का कहना ये भी है कि अभी पटना में cng पेट्रोल पंप की कमी है हर क्षेत्र में पेट्रोल पंप है भी नहीं | वहीँ संघ का कहना है कि अगर सरकार मेरी बातों को नहीं मानती है तो हमलोग अनिश्चित काल धरना पर बैठेंगे | और हरताल करेंगे जब तक हमलोग की मांग पूरी न हो जाए |

यह भी पढ़ें  जुलाई महीने से पीएमसीएच जाना होगा आसान राजधानी पटना के गंगा पथ पर बने एक्सप्रेस-वे का शुरू होगा परिचालन

सरकारी आंकड़ा के अनुसार अभी भी पटना के सड़कों पर लगभग 20 हजार से अधिक ऑटो चल रही है जो कि कहीं न कहीं पटना को प्रदूषित कर रही है | वहीँ डीजल वाली बसों की बात की जाए तो 130 नगर सेवा और पथ परिवहन की 130 बस पटना के सड़कों पर अभी भी चल रही है | जबकि बहुत सारे बस को cng में कन्वर्ट कर दिया गया है |