भारत के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के पास रति भर भी नहीं है पैसो का घमंड जीते है आम लोगों की तरह जिंदगी

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी के पास पैसो की कोई कमी नहीं है | जन भी इस दुनिया में विकेटकीपर,अच्छे कप्तान,फिनिसर बल्लेबाज़ की कहीं भी चर्चा होगी उस लिस्ट में ms धोनी का नाम जरूर लिया जाएगा | धोनी ऐसे शख्स है जो उनके पास इतने सारे दौलत धन सम्पति है लेकिन उनको रति भर भी इस चीज का घमंड नहीं है शायद यही वजह है की धोनी के आज चाहने वालो करोड़ो में है सिर्फ भारत की नहीं महेंद्र सिंह धोनी की फैन following विदेशों में भी है |

आईये जानते है उनके जेवन से जुड़ी कुछ खास बाते…

यह भी पढ़ें  मात्र 5 रूपये का यह सिक्का आपको बना देगा लाखो की मालिक, बेचने पर मिलेंगे 10 लाख रुपए, जानिये कैसे

महेंद्र सिंह धोनी को लेकर सोशल मीडिया पर हमेशा कुछ न कुछ वायरल होते रहता है | धिनु की लोकप्रियता दिन पर दिन बढ़ते जा रहे है | शायद यही वजह है की धोनी कुछ भी करते है तो उसे सुर्खियों में आने में कोई वक़्त नहीं लगता है | आजकल इन्टरनेट पर ms धोनी का फ़ार्म हाउस चर्चा में है | जी हाँ दोस्तों धोनी का रांची में एक फार हाउस है जहाँ पर धोनी खेती करते है | सब्जिओ की स्ट्राबेरी की और तरह-तरह के काम होती है धोनी दूध का भी कार-बार करते है |

ससत एकड़ में फैला है महेंद्र सिंह धोनी का यह फार्म हाउस जिसमे धोनी अलग-अलग तरह के कई खेती करते है बता दे की धोनी एक एकड़ में टी सिर्फ गेंहू लगते है | धोनी इसमें से उब्जे हुए गेंहू खुद भी खाते है और गरीब लोग में भी बाटते है | ऐसे में आप सबके मन में ये सवाल आ रहा होगा की आखिर धोनी किस वैराइटी की गेंहू लगाते है तो आपको जानकारी के लिए बता दे कि धोनी जिस वैराईटी की खेती करते है उसका नाम है | CRD गेंहू |

यह भी पढ़ें  सहारा इंडिया में आप भी किये है पैसा निवेश जानिये सरकार ने बताया, क्‍यों नहीं मिल पा रही निवेशकों के पैसे?

जानें क्या है CRD गेहूं 1 की खासियत

  • इस किस्म में जिंक की मात्रा 42 PPM है. जबकि दूसरे गेहूं की किस्म में जिंक की मात्रा 32 PPM होती है.
  • इसका तना मजबूत होता है जिससे पौधे के गिरने की संभावना कम होती है.
  • इसकी बालियों में दानों की संख्या दूसरे किस्मों की तुलना में डेढ़ से दोगुनी होती है.
  • इसका दाना बड़ा होता है, इसके एक हजार दानों का वजन 56 ग्राम होता है. जबकि दूसरे किस्मों में इतनी ही संख्या का वजन 46 ग्राम होता है.
  • इस किस्म में एक एकड़ में बुआई के लिए 55 किलो बीज की जरूरत होती है.
  • इसकी बुआई 20 नवंबर से 20 दिसंबर तक की जाती है. देर से बुआई करने पर उपज में कमी आती है .