ind vs sl : भारतीय बल्लेबाज़ श्रेयस अय्यर ने अपनी बैटिंग स्किल को लेकर किया खुलासा दिया ये बयान…

टीम इंडिया के दिग्गज बल्लेबाज श्रेयस अय्यर ने श्रीलंका के विरुद्ध हुई सीरीज में अपने धमाकेदार प्रदर्शन से हर किसी को प्रभावित किया है। इस सीरीज से पहले उनके फॉर्म को लेकर भी कई सवाल खड़े किए गए थे। लेकिन, अब अय्यर ने अपनी बल्लेबाजी से आलोचकों को जवाब दे दिया है।

श्रीलंका के खिलाफ हुई टी20I सीरीज के तीसरे और आखिरी मैच में श्रेयस अय्यर की बेहतरीन पारी के दम पर टीम इंडिया को एक और क्लीन स्वीप हासिल करने का मौका मिला है। बता दें कि, रोहित शर्मा के फुल टाइम कप्तान बनने के बाद टीम इंडिया ने अब तक 4 सीरीज क्लीन स्वीप कर लीं हैं।

यह भी पढ़ें  IPL में रैना की हुई वापसी, गुजरात टाइटंस ने टीम में किया शामिल! जाने क्या है वायरल खबर की हकीकत

श्रेयस अय्यर ने इस सीरीज में बेहतर प्रदर्शन करते हुए सभी 3 मैचों में अर्धशतक जड़े हैं। धर्मशाला में खेले गए आखिरी टी20I में भी अय्यर ने 6 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 73 रन बनाए हैं।

श्रेयस अय्यर ने उठाया मौके का फायदा

गौरतलब है कि, वेस्टइंडीज के खिलाफ हुई टी20 सीरीज के आखिरी मैच से विराट कोहली आराम पर हैं। यही कारण है कि, अय्यर को नंबर 3 पर बल्लेबाजी करने का मौका मिला है। श्रीलंका के विरुद्ध इन तीन मैचों में यदि श्रेयस अय्यर का प्रदर्शन देखें तो उन्होंने पहले मैच में 28 गेंदों में 57 रन, दूसरे मैच में 44 गेंदों में 77 और अब तीसरे मैच में 45 गेंदों में 73 रन बनाए।

यह भी पढ़ें  आने वाले समय में कोहली का जगह ले सकता है यह खिलाड़ी खेलता है शानदार पारी

इस सीरीज के तीनों मैचों में श्रेयस अय्यर नाबाद रहे हैं। इस दौरान उनके बल्ले से तीन अर्धशतक भी निकले हैं, खासबात यह है कि, ये सभी नॉक 150 से अधिक के शानदार स्ट्राइक रेट से आए हैं, और हर 4.2 गेंद पर एक चौका लगाया है।

इसके साथ ही, वह 3 मैचों की द्विपक्षीय टी20I सीरीज में सबसे अधिक रन बनाने वाले भारतीय खिलाड़ी भी बन गए हैं।इस सीरीज में उन्होंने 204 रन बनाए थे। अय्यर को अंततः उनके शानदार प्रदर्शन के लिए प्लेयर ऑफ़ द मैच और प्लेयर ऑफ़ द सीरीज घोषित किया गया है।

तीसरे मैच में दोनों ही अवार्ड हासिल करने के बाद श्रेयस अय्यर ने बातचीत में कहा है कि, “तीनों नॉक विशेष थे, लेकिन कल की पारी मेरे लिए भी खास थी। फॉर्म में आने के लिए केवल एक गेंद की आवश्यकता होती है जब तक कि आप गेंद पर अपनी नजरें गड़ाए हुए हैं। इस मैच में विकेट पिछले मैच की तरह थोड़ा तेज था। इसके अलावा, आउटफील्ड भी इतनी तेज थी कि, बस बॉल को हिट करने की जरूरत थी। मैंने शॉर्ट बॉल पर कुछ भी काम नहीं किया है, लगातार खेलने के बाद अब मैं शॉर्ट बॉल को आसानी से खेलने में सक्षम हैं।”

यह भी पढ़ें  अगले टेस्ट में कोहली को वापस आते ही इस खिलाड़ी का हो सकता है एंट्री, लंबे समय से बैठा टीम से बाहर