बिहार के 42 हजार टीचर्स को उनकी मनपसंद स्कूलों में मिली नौकरी, जानिये कब तक करना है जोइनिंग

बिहार के शिक्षक अभ्यर्थियो की सपना अब साकार हो चूका है जी हाँ दोस्तों आपको बता दे कि बिहार के 42 हजार अभ्यर्थी को बुधवार को नियुक्ति पत्र दे दिया गया है | सरकार की तरफ से प्रारंभिक शिक्षक के नियुक्ति पत्र देने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। राज्य के सभी जिलों को अगले 3 दिनों में चयनित अभ्यर्थियों को नियुक्ति पत्र देने का आदेश दिया गया है।

और सबसे खास बात आपको बता दे की अभ्यर्थियो के मनपसंदीदा स्कूल में उनकी नियुक्ति की जा रही है | बता दे की राजधानी पटना के जिला शिक्षा पदाधिकारी अमित कुमार ने बताया कि नियुक्ति पत्र लेने के 30 दिनों के भीतर सभी अभ्यर्थियों को स्कूल में काम शुरू करना होगा। योगदान देने से पहले उन्हें सिविल सर्जन स्तर का हेल्थ सर्टिफिकेट बना कर सबमिट करना होगा। इसके साथ ही दहेज नहीं लेने का स्वघोषणा व शपथ पत्र भी जमा करना होगा।

यह भी पढ़ें  बिहार में दारू की जगह तारी को सरकार देगी बढ़ावा राजधानी पटना में 50 से अधिक जगहों पर होगी बिक्री

30 सितंबर तक पूरी होगी प्रमाण पत्र के जांच की प्रक्रिया

23 फरवरी को सभी 38 जिलों में नियुक्ति पत्र बांटने की शुरुआत होगी। पटना समेत करीब डेढ़ से दो दर्जन जिले एक ही दिन में इसे पूर्ण करेंगे। सीतामढ़ी, दरभंगा, मधुबनी, बेगूसराय, समस्तीपुर, खगड़िया आदि बड़े जिलों में तीन दिनों 23, 24 और 25 को नियुक्ति पत्र वितरित किये जाएंगे।

कहीं-कहीं यह प्रक्रिया 26 को भी चलने की उम्मीद है। बकौल अपर मुख्य सचिव, नियुक्ति पत्र पाने वाले च्वाइस के आधार पर विद्यालय में पदस्थापित होंगे। जांच में सही पाए जाने वालों को वेतन मिलने लगेगा जबकि शेष का वेतन भुगतान सर्टिफिकेट जांच के बाद होगा। जांच के लिए 30 सितंबर तक मुकर्रर है।

यह भी पढ़ें  अच्छी खबर : अब बिहार से जनकपुर धाम नेपाल के लिए कर सकेंगे सफर जानिये कब से शुरू होगी ट्रेन

जानिए, क्यों हुई नियक्ति में देरी

शिक्षा विभाग ने 91 हजार प्रारंभिक शिक्षकों की नियुक्ति की अधिसूचना 5 जुलाई 2019 को जारी की थी। पहले शेड्यूल के मुताबिक 31 मार्च 2020 के पहले नियुक्ति पत्र मिल जाना था। लेकिन पहली बार 11 फरवरी 2020 को इसे स्थगित किया गया। फिर आठ-दस बार विभिन्न न्यायिक आदेशों से यह आगे बढ़ता रहा।