बिहार के लाल ने किया कमाल, पहले ही मैच में बनाया विश्व रिकॉर्ड विराट रोहित को पछाड़ा !

क्रिकेट को अनिश्चिताओ का खेल माना जाता है | और कहीं न कहीं ये सत्य भी है | क्योंकि क्रिकेट में कब क्या हो जाए किसी को पता नहीं रहता जी हाँ दोस्तों क्रिकेट में बड़े-बड़े रिकॉर्ड बनते है और टूटते रहते है | हाल ही में क्रिकेट की दुनिया में बिहार के लाल ने विश्व रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है। बिहार के मोतिहारी के क्रिकेट प्लेयर साकिबुल गनी ने रणजी ट्रॉफी में तिहरा शतक जड़ दिया है। 22 बरस के साकिबुल गनी ने रणजी ट्रॉफ़ी डेब्यू मैच में बिहार की तरफ से बैटिंग करते हुए ट्रिपल सेंचुरी लगाई।

कोलकाता में मिज़ोरम के खिलाफ खेली गई उनकी यह पारी फर्स्ट क्लास क्रिकेट के पहले मैच में किसी भी बल्लेबाज के नाम पर दर्ज दुनिया में सबसे बड़ा स्कोर है। उनकी यह ट्रिपल सेंचुरी मात्र 387 गेंद पर आई है। उन्होंने अपनी इस पारी में 50 चौके लगाए हैं। साकिबुल गनी के इस परफॉर्मेंस उनके परिजनों को बधाइयां मिल रही है। उनके घर पर जश्न मनाया जा रहा है।

यह भी पढ़ें  शादी के सातवें दिन पति के साथ बाज़ार गई पत्नी चूड़ी खरीदने, पत्नी पुराना प्रेमी के साथ हो गई भरे बाज़ार से फरार देखता रह गया बेचारा पति

चार भाई में दो भाई है क्रिकेटर

साकिबुल गनी चार भाई में सबसे छोटा है। इसका बड़ा भाई फैसल गनी भी क्रिकेटर है। वो तेज गेंदबाज हैं। साकिबुल के बड़े पिताजी ने दैनिक भास्कर को बताया कि जब से मैंने वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने की बात सुनी है, तब से खुशी के मारे नींद नहीं आ रही है।

MP के अजय रोहेरा के नाम था रिकॉर्ड

इससे पहले फर्स्ट क्लास डेब्यू पर अजय रोहेरा के नाम रिकॉर्ड दर्ज था। उन्होंने नाबाद 267 रनों की पारी खेली थी। साकिबुल ने उनको काफी पीछे छोड़ते हुए यह बड़ा रिकॉर्ड स्थापित कर दिया। वह उस समय बल्लेबाजी करने के लिए आए जब बिहार के 3 विकेट 71 के कुल स्कोर पर गिर गए थे। इसके बाद जो हुआ वह इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गया।

यह भी पढ़ें  बिहार के इस जिला में फैलेगा सड़कों की जाल अगले पांच साल में शानदार होगा बिहार का सफर

341 रन के शानदार पारी से जीता सबका दिल 

यह रणजी कोलकत्ता में मिजोरम के खिलाफ खेला जा रहा था। वही बिहार की तरफ से खेलते हुए सकीबुल गणी ने अकेले 341 रनो की शानदार पारी खेली, यानि की इन्होने ट्रिपल सेंचुरी 387 बॉल पर मारी। आपको बता दूँ की उनका यह पारी धुआँधार था। जहाँ पर उन्होंने कुल 50 चौके लगाए थे।