बिहार : रक्सौल-काठमांडू रेल लाइन का सपना जल्द होगा पूरा, सर्वेक्षण के लिए नेपाल पंहुची भारत के अधिकारी

बिहार के लोगों का वर्षो का सपना बहुत जल्द सच होने वाला है | जी हाँ दोस्तों आपको बता दे की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट रक्सौल-काठमांडू रेललाइन को लेकर फाइनल लोकेशन सर्वे का काम शुरू हो गया है. कोंकण रेलवे की टीम के काठमांडू पहुंचने के साथ ही फाइनल लोकेशन का काम आरंभ कर दिया गया है. बता दे की नेपाल रेल विभाग के प्रवक्ता अमन चित्रकार ने बताया कि भारतीय टीम नेपाल में सर्वे का काम शुरू कर दी है. सर्वे में आवश्यक यंत्र, उपकरण को भारत से लाने पर नेपाल सरकार द्वारा किसी तरह का कस्टम शुल्क नहीं लिया जा रहा है |

यह भी पढ़ें  बिहार में बच्चे ने परीक्षा में उत्तर के बदले लिखा खेसारी लाल का गाना "ऐ राजा छुटता पसीना गर्मी होला, राजा जाई बजारे लेले आई कोको कोला"

मीडिया रिपोर्ट की माने तो फाइनल लोकेशन सर्वे को 18 महीने के अंदर पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. इससे पहले एक सर्वे और डीपीआर बनाने का काम पूरा हो चुका है. फाइनल लोकेशन सर्वे होने के बाद इस रेल मार्ग की पूरी रूपरेखा, इसके निर्माण कार्य में आने वाली लागत सब कुछ साफ हो जाएगा. श्री चित्रकार ने बताया कि प्रस्तावित रक्सौल-काठमांडू रेललाइन का भारतीय पक्ष के द्वारा 2018 में इस रूट का प्रारंभिक इंजीनियरिंग व ट्राफिक सर्वेक्षण पूरा कर लिया गया था |

आपको बता दे की कोंकण रेलवे कॉरपोरेशन लिमिटेड द्वारा तैयार इस रिपोर्ट के अनुसार रक्सौल से काठमांडू के बीच 136 किमी लंबी रेललाइन बनाने की योजना है. यह रेललाइन रक्सौल स्टेशन से निकलकर पंटोका के रास्ते नेपाल में प्रवेश करेगी. इसके बाद नेपाल के निजगढ़ से बागमती नदी के किनारे-किनारे काठमांडू के खोकना तक रेललाइन बनाने का प्राइमरी सर्वे हुआ था.

यह भी पढ़ें  बिहार में एका-एक बदला मौसम का मिजाज इन 10 जिलों में भारी बारिश की आसार जानिये अपने क्षेत्र की हाल?

बताया जा रहा है की प्रस्तावित रेलखंड का करीब 40 किमी खंड सुरंग के अंदर से गुजरेगा. इस रूट पर 35 बड़े पुल बनाने की योजना है. रक्सौल से काठमांडू तक ब्रॉडगेज में रेलवे लाइन बनेगी. इस लाइन के बन जाने के बाद से भारत और नेपाल के संबंधों को नया आयाम मिलेगा.