अच्छी खबर : इस साल बिहार में पूरा होगा तीन नेशनल हाईवे का काम इन जिलों को होगा फायदा !

बिहार के लोगों के लिए अच्छी खबर है |बिहार में तीन महत्वपूर्ण एनएच का निर्माण इस साल पूरा होने की संभावना है. इनमें हाजीपुर-मुजफ्फरपुर न्यू बाइपास, कोइलवर-भोजपुर और भोजपुर से बक्सर एनएच शामिल हैं. इन सड़कों के बन जाने से बिहार के पश्चिमी हिस्से से पटना पहुंचना आसान हो जायेगा | साथ ही हाजीपुर-मुजफ्फरपुर न्यू बाइपास बनने से पटना से दरभंगा, मधुबनी और चंपारण की तरफ आने-जाने वालों को आसानी होगी. उन्हें मुजफ्फरपुर शहर के बाहर से ही निकलने का रास्ता मिल जायेगा और मजफ्फरपुर शहर को भी जाम से राहत मिलेगी |

सातवें महीने तक होगा हाजीपुर-मुज्ज़फरपुर हाईवे का काम |

बता दें कि हाजीपुर-मुजफ्फरपुर न्यू बाइपास का निर्माण करीब 63.17 किमी लंबाई में 2010 में शुरू हुआ। इसकी अनुमानित लागत करीब 671 करोड़ रुपये है। इस सड़क परियोजना में अब जमीन अधिग्रहण की समस्या दूर कर ली गयी है. 63.17 किमी लंबाई में से करीब 54 किमी लंबाई में सड़क का निर्माण हो चुका है। अब बचे हुये हिस्से का निर्माण 30 जून 2022 तक पूरा होने की समय- सीमा तय की गयी है।

यह भी पढ़ें  खुशखबरी बिहार बना विकाश का मिशाल 9 km से भी बड़ा बिहार में बनेगा 6 लेन पूल रचेगा इतिहास

दिसंबर तक पूरा होगा इन दो सड़कों का निर्माण।

कोइलवर-भोजपुर और भोजपुर से बक्सर तक फोरलेन एनएच के निर्माण के लिए भी जमीन अधिग्रहण की समस्या दूर हो चुकी है। इन सड़कों का निर्माण दिसंबर 2022 तक पूरा करने की समयसीमा है। दोनों परियोजनाओंं में भी जमीन अधिग्रहण की समस्या से विलंब हुअा है। कोइलवर से भोजपुर तक सड़क का निर्माण 2017 में शुरू हुआ था।

इसकी अनुमानित लागत करीब 1375 करोड़ रुपये है। इसका निर्माण करीब 43.85 किमी लंबाई में से करीब 31.05 किमी लंबाई में हो चुका है। वहीं, भोजपुर से बक्सर तक फोरलेन का काम 2018 में करीब 1195 करोड़ रुपये की लागत से शुरू हुआ। करीब 47.9 किमी लंबाई में से इसका निर्माण करीब 36.19 किमी हो चुका है।

यह भी पढ़ें  Bihar Weather : बिहार में मानसून के प्रवेश होने के बाद भी नहीं हो रही बारिश, जुलाई महीने से वर्षा बरसने की उम्मीद

जानिये किसको मिलेगा फायदा

बता दें कि इन सड़कों के बन जाने से बिहार के पश्चिमी हिस्से से पटना पहुंचना आसान हो जायेगा। वहीं हाजीपुर-मुजफ्फरपुर न्यू बाइपास बनने से पटना से दरभंगा, मधुबनी और चंपारण की तरफ आने-जाने वालों को आसानी होगी। उन्हें मुजफ्फरपुर शहर के बाहर से ही निकलने का रास्ता मिल जायेगा और मजफ्फरपुर शहर को भी जाम से राहत मिलेगी।