बिहार के सरकारी शिक्षकों के लिए बुरी खबर : करना होगा ये काम नहीं तो होगी कार्यवाई जानिये पूरी मामला…

अभी बिहार में फिलहाल स्कूल संस्थान को 6 फरवरी तक बंद की गयी महामारी के देखते हुए हालत को देखकर बता दे की स्कूल बंद है लेकिन 50% की उपस्थिति के साथ शिक्षक को स्कूल जाना है | ऐसे में अधिकतर शिक्षक छुट्टी के मूड में दिख रहे हैं। अब शिक्षा विभाग में सभी जिलों के कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना और सर्व शिक्षा अभियान से रिपोर्ट तलब की है। वहीँ अब सरकार ने बच्चो को ऑनलाइन शिक्षा देने की मन बना ली है | बता दे की सरकार अब सभी सरकारी स्कूल में पढ़ रहे बच्चो को ऑनलाइन शिक्षा देने की मन बनाई है और इसकी पूरी रिपोर्ट हरेक सप्ताह में शिक्षकों को मुख्यालय को देना होगा |

यह भी पढ़ें  बिहार के राजधानी पटना सहित इन जिलों में 50 से अधिक सड़क एवं 37 पूल का होगा निर्माण, देखे लिस्ट

जानकारी के अनुसार बता दे की इस ऑनलाइन शिक्षा के बारे बारे में सारी रिपोर्ट को हरेक सप्ताह सभी शिक्षा पदाधिकारियो को यह रिपोर्ट सौंपनी होगी कि प्रारंभिक, मध्य, माध्यमिक और उच्चतर माध्यमिक वर्ग के बच्चे आनलाइन शिक्षण से लाभान्वित हुए हैं। स्कूल की संख्या और छात्रों की संख्या भी रिपोर्ट में देनी है।

बिहार राज्य शिक्षा परियोजना परिषद के परियोजना प्रबंधक श्रीकांत शास्त्री ने हर जिलों के जिला शिक्षा पदाधिकारी, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी सर्व शिक्षा अभियान, जिला कार्यक्रम पदाधिकारी स्थापना को आदेश दिया है कि हर सप्ताह शनिवार के दिन ईमेल के जरिए अपनी रिपोर्ट अनिवार्य रूप से मुख्यालय को भेज दें।

यह भी पढ़ें  बिहार में इस दिन हो सकती है बारिश, एक बार फिर बढ़ेगी कनकनी चलेगी शीतलहर

इन शिक्षकों पर होगी कार्यवाई

जिले के कार्यक्रम पदाधिकारी सर्व शिक्षा अभियान देवेंद्र नारायण पंडित ने जानकारी दी कि स्कूल बंद होने से सभी शिक्षकों को अपने स्कूलों के बच्चों की पढ़ाई प्रभावित ना हो इसके लिए ऑनलाइन शिक्षा की व्यवस्था करने का जिम्मा सौंपा गया है। सभी स्कूलों के प्रधानाचार्य आवश्यक रूप से स्कूल आने वाले टीचरों को टोले का विभाजन कर छोटे-छोटे ग्रुप में बच्चों की पढ़ाई का समुचित व्यवस्था करें।

रिपोर्ट में सामने आ रही है कि कई टोला सेवक शानदार कार्य कर रहे हैं। कुछेक टीचरों का भी बेहतर प्रदर्शन है। दूरदर्शन पर भी ऑनलाइन पढ़ाई करने के लिए शिक्षक छात्रों को प्रेरित करें। दूरदर्शन से होने वाली ऑनलाइन पढ़ाई में सभी कक्षा के पाठ्यपुस्तक और अन्य सामग्री भी ई लोटस पर उपलब्ध है। ऑनलाइन शिक्षण में दिलचस्पी नहीं दिखाने वाले शिक्षकों पर कार्रवाई की जाएगी। विभाग के इस नए फरमान से शिक्षकों के माथे पर चिंता की लकीरें खिंच गई है।

यह भी पढ़ें  बिहार के लोगों के लिए मौसम विभाग का अलर्ट, कई जिलों में बारिश और वज्रपात की चेतावनी