बिहार सरकार का नया फरमान अब सड़क मरम्मत पर खर्च होंगे 1000 करोड़ सभी सड़क होंगे चकाचक….

बिहार की सड़क की मरम्मत पर राज्य सरकार ने बड़ा निर्णय लिया है चालू वित्तीय वर्ष 2020 से 2022 में सड़क की मरम्मत के लिए करीब करीब एक हजार करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे इसका मतलब साफ है कि अब सड़क जो टूटी फूटी हुई थी.वह सड़क अब चमचमाती हुई आपको जल्दी दिखेगी इसके तहत 13064 किलोमीटर सड़क की मरम्मत होनी है इसके लिए पथ निर्माण विभाग ने 71 पैकेज में निविदा जारी कर एजेंसी का चयन किया है |

एजेंसी की ओर से साल 2026 तक सड़क की मरम्मत की जानी है इसके तहत हर साल कितनी राशि खर्च हो यह तय किया जाता है इस वित्तीय वर्ष के लिए विभाग ने 1000 करोड़ रुपए मरम्मत पर खर्च करने का निर्णय लिया है।विभाग को भरोसा है कि इतनी बड़ी राशि से राज्य के सड़क की स्थिति बेहतर हो सकेगी मरम्मत के अलावा विभाग ने एजेंसी पर भी शिकंजा कस दिया है सभी सड़क का मानक के अनुसार मरम्मत की जा रही है या नहीं |

यह भी पढ़ें  बिहार में जल्‍दी बंद हो सकते हैं स्‍कूल, शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने दिए संकेत

इसकी कड़ी निगरानी की जाएगी किसी एजेंसी के खिलाफ अगर 2 बार से अधिक शिकायत आया तो उनकी राशि काटी जाएगी लापरवाही बरतने पर एजेंसी से काम भी छीनी जा सकती है.सड़क मरम्मत की निगरानी के लिए विभाग ने नेटवर्क सर्वे भी सहायता लेने का निर्णय लिया है इसके साथ-साथ उच्च क्षमता वाले कैमरा लगी गाड़ी से पता लगाया जा सकेगा कि कहीं मरम्मत में कोताही तो नहीं हो रही है।

छह इन सड़कों का जल्द होगा निर्माण :

  1. राजधानी पटना के बाबा चौक से इंद्रपुरी महेश नगर एवं AN कॉलेज के पीछे बाउंड्री के 6 लेन तक की सड़क किनारे नाला को पाटकर सड़क का निर्माण किया जाएगा।
  2. राजीव नगर रोड नम्बर 23 और 24 होते हुए 6 लेन तक सड़क का निर्माण किया जाएगा।
  3. अनिसाबाद स्थित पुलिस कॉलोनी के सेक्टर एबीसीडी की मुख्य एवं आंतरिक सड़कों का निर्माण किया जाएगा।
  4. गर्दनीबाग रोड नम्बर 1 बाघ मूर्ति से कालीबाड़ी, कच्ची तालाब सरिस्ताबाद होते हुए 70 फिट बाईपास तक सड़क का निर्माण किया जाएगा।
  5. पाटलिपुत्र कॉलोनी में स्थित विभिन्न प्लॉट के बीच स्थित सड़कों का निर्माण करवाया जाएगा।
  6. पंचमुखी मोड़ से बाबा चौक एवं शकुंतला मार्केट से नाला तक सड़क का निर्माण करवाया जाएगा।
यह भी पढ़ें  यहाँ बनेगा बिहार का सबसे ख़ास 80 मीटर चौड़ी सड़क, सेंट्रल स्वाइन के नाम से जाना जाएगा !