खुशखबरी : बिहार में एक साथ होगी सवा लाख शिक्षकों की नियुक्ति, जानें पूरी डिटेल….

बिहार के पढ़े लिखे लोगों के लिए अच्छी खबर है बता दे की राज्य सरकार संस्कृत एवं उर्दू शिक्षा को बढ़ावा देगी। इसे देश के किसी अन्य राज्य की तुलना में अधिक बेहतर बनाया जाएगा। बिहार के शिक्षा मंत्री विजय कुमार चौधरी ने गुरुवार को विधानसभा में यह घोषणा की। वे शिक्षा विभाग की अनुपूरक व्यय विवरणी पर हुई बहस का उत्तर दे रहे थे। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव की प्रक्रिया समाप्त होते ही करीब सवा लाख शिक्षकों की बहाली होगी।

उन्होंने आगे बताया की बिहार में सवा आठ हजार फिजिकल टीचर भी बहाल होंगे। उन्होंने कहा कि करीब 40 हजार शिक्षकों की बहाली की प्रक्रिया पूरी हो गई है। सरकार ने सभी शिक्षकों को एक साथ नियुक्ति पत्र देने का फैसला किया है। ताकि वरीयता को लेकर कोई विवाद नहीं हो। क्योंकि एक ही विज्ञापन के आधार पर अगर अलग-अलग तारीखों में बहाली होगी तो इसे लेकर कोई व्यक्ति न्यायालय में भी जा सकता है। 

यह भी पढ़ें  बिहार के इस जिले में कचरे से बनेंगे पेट्रोल-डीजल सस्ते होंगे तेल लोगों को मिलेगा रोजगार

आखिरी में उभोने बताया की शिक्षा के क्षेत्र में फिसड्डी होने के विपक्ष के आरोपों को खारिज करते हुए चौधरी ने कहा कि वर्ष 2005 की स्थिति की तुलना करें तो नीतीश कुमार के कार्यकाल में बहुत सुधार हुआ है। प्राथमिक स्कूलों की संख्या 37 हजार से बढ़कर 40 हजार हो गई है। माध्यमिक विद्यालयों की संख्या तब साढ़े 13 हजार थी। वह अब 29 हजार है। उन्होंने राजद शासन काल में हुई शिक्षक बहाली में धांधली की ओर इशारा करते हुए कहा-शिक्षकों की बहाली बिहार लोक सेवा आयोग से हुई थी।