गाय के तबेले में गोबर उठाने वाली लड़की बनीं जज, जानिये कैसे हासिल की इतने बड़े मुकाम को

26 साल की सोनल एक गरीब परिवार से बिलॉन्ग करती है और उनके पिता दूध बेचते हैं दूध वाले की बेटी सोनल जज बंद कर ना सिर्फ अपने परिवार का बल्कि राज्य का नाम रोशन की है और सबको बहुत प्रेरित भी की हैसोनल राजस्थान की उदयपुर की रहने वाली है |

इसके परिवार की आर्थिक स्थिति अच्छी नहीं होने के कारण इसके शिक्षा में बहुत सी परेशानियां झेलनी पड़ी है और साल 2018 में राजस्थान में न्यायिक सेवा का परीक्षा देकर जज बनी और यह अपना सारा जीवन अपने पिता के साथ गौशाला में ही बिताया |

और गाय का गोबर और उस को खाना देती रहे सोनल शर्मा ने खुद इस बात का जिक्र किया था कि वह हमेशा गौशाला में बैठकर पढ़ा करती थी। इन सभी परेशानियों के बीच उन्होंने बीेए. एलएलबी. और एलएलएम की परीक्षा पास की थी। वहीं आर्थिक मंदी के चलते सोनल कभी भी ट्यूशन की फीस नहीं दे पाई।

यह भी पढ़ें  पोती ने बढाया दादाजी मान : मात्र 23 साल की उम्र में निशा ग्रेवाल ने पास किया UPSC, एक छोटे गाँव से निकलकर बनी IAS

ऐसे में उन्होंने हमेशा अपनी पढ़ाई अपने दम पर ही थी।बता दे हाल ही में सोनल शर्मा को राजस्थान के सेशन कोर्ट में फर्स्ट क्लास मजिस्ट्रेट के तौर पर नियुक्त किया गया है। दरअसल इन परीक्षाओं के परिणाम पिछले दिसंबर में आए थे,लेकिन सोनल शर्मा का नाम इस दौरान वेटिंग लिस्ट में रखा गया था।

ऐसा इसलिए किया गया क्योंकि वह जनरल कट ऑफ लिस्ट में एक नंबर से पीछे थी। ऐसे में वेटिंग लिस्ट के छात्रों का नाम आने पर सोनल शर्मा का इसमें चयन हुआ।दरअसल जब एक चयनित उम्मीदवार ने इस सेवा में आगे ना बढ़ने का फैसला किया, तब सोनल को यह मौका सौंपा गया। ऐसे में एक गरीब परिवार से ताल्लुक रखने वाली सोनल शर्मा ने फर्स्ट क्लास मजिस्ट्रेट बन कर अपने परिवार में एक इतिहास रच दिया है।

यह भी पढ़ें  दुनिया के सबसे बड़े परिवार में भारत के मिजोरम में रहने वाले चाना फैमिली का नाम शामिल है. इस परिवार में कुल 181 लोग हैं