कभी पेट भरने के लिए पानीपूरी बेचते थे ये क्रिकेटर, IPL ने बना दिया करोड़पति

आईपीएल में हर साल एक न एक नए सितारे देखने को मिलता है | जिन्होंने अपनी मेहनत की बदौलत काफी नाम कमाया है और भारतीय टीम का हिस्सा भी बने हैं। जी हाँ दोस्तों आज हम बात कर रहे है | राजस्थान रॉयल्स की ओर से खेलने वाले यशस्वी जायसवाल के बारे में जिन्होंने अपने मेहनत और लगन की बदौलत आज इतना बड़ा मुकाम हासिल कर लिया है।

इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) ने कई खिलाड़ियों की किस्मत बदली है, उन्हीं में से एक रहे हैं भारतीय युवा क्रिकेटर यशस्वी जायसवाल. घरेलू क्रिकेट में महज 17 साल की उम्र में यूथ वनडे मैचों में दोहरा शतक लगाने वाले यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) ने काफी मेहनत के बाद बड़ी सफलता हासिल की है. यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) कभी पेट भरने के लिए मुंबई में गोलगप्पे बेचते थे. आज यशस्वी जायसवाल राजस्थान रॉयल्स ( Rajasthan Royals) के लिए IPL में खेलते हैं और एक सीजन के 2.4 करोड़ रुपये लेते हैं |

यह भी पढ़ें  भारत को मिला मिडिल आर्डर के लिए ये शानदार बल्लेबाज़ है कोहली से भी ज्यादा खतरनाक बल्लेबाज जानिये.....

आपको बता दें कि जयसवाल का बचपन बेहद गरीबी में बीता है। उन्होंने आज यहां तक पहुंचने के पीछे काफी मेहनत की है। जयसवाल आज भारत के उभरते सितारे बन चुके हैं लेकिन इनके पीछे की कहानी काफी दुख भरी है जहां यह स्टार खिलाड़ी पानीपुरी भी बेचा करता था।

जयसवाल पहले बेचता था पानी पुरी

आईपीएल में राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेलने वाले सलामी बल्लेबाज यशस्वी जायसवाल काफी गरीब परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उत्तर प्रदेश के भदोही गांव के रहने वाले यशस्वी 11 साल की उम्र में ही मुंबई आ गए थे। यह वह दौर था जहां उन्हें काफी संघर्ष करना था काफी रात कैसी बीती जब उनके पास रहने को घर भी नहीं था और उन्होंने टेंट में रहकर अपनी रातें गुजारी। इसके बाद आजाद स्टेडियम के सामने पानी पुरी बेच कर अपना गुजारा किया करते थे।

यह भी पढ़ें  धोनी , रोहित या कोहली नहीं , ये हैं श्रेयस अय्यर के पसंदीदा कप्तान, हो सकते है भारत के भविष्य के कप्तान

अंडर 19 वर्ल्ड कप 2020 के दौरान यशस्वी जायसवाल (Yashasvi Jaiswal) का नाम सबसे अधिक चर्चा में था. यशस्वी जायसवाल के संघर्ष की कहानी बहुत कम लोगों को पता है. यशस्वी जायसवाल मुंबई के आजाद मैदान के बाहर गोलगप्पे बेचा करते थे. यशस्वी ने अपने ट्रेनिंग के दौर में टेंट में जीवनयापन किया था, लेकिन उनमें सफलता हासिल करने का जज्बा कूट-कूटकर भरा था. यशस्वी जायसवाल ने अंडर-19 वर्ल्ड कप 2020 में 400 रन बनाए थे, जिसमें एक शतक और 4 अर्धशतक शामिल थे.