कोयले के आभाव में कभी भी थप हो सकती है पुरे बिहार की बिजली उत्पादन

आने वाले दिनों में आपके घर की बिजली गुल हो सकती है क्योंकि देश में केवल चार दिन का कोयला बचा हुआ है। बता दें कि भारत में बिजली उत्पादन करने के लिए सबसे अधिक इस्तेमाल कोयले का ही होता है।  दुर्गा पूजा होने के बाद भी बिहार में बिजली संकट कम होने का नाम नहीं ले रहा। जानकारी के अनुसार इसके पीछे कोयला का अभाव बाताया जा रहा है। कहा जा रहा है कि अगर स्थिति में याथा संभव सुधार नहीं हुआ बिहार सहित देश भर में बिजली संकट उत्पन हो सकती है।

आखिर क्यों आयी ऐसी समस्या :

अगर इसके वजह की बात करे तो जैसा की बिहार में पिछले कुछ सालो से अभियान चल रहा है | हर घर बिजली देने का लक्ष्य, जिससे पहले के मुकाबले बिजली की मांग काफी बढ़ी हुई है। ऊर्जा मंत्रालय के एक आंकड़े के अनुसार 2019 में अगस्त-सितंबर महीने में बिजली की कुल खपत 10 हजार 660 करोड़ यूनिट  प्रति महीना थी। यह आंकड़ा 2021 में बढ़कर 12 हजार 420 करोड़ यूनिट प्रति महीने तक पहुंच गया है। जबकि बिजली की खपत पहले सिर्फ शहरो में अधिक थी लेकिन अभी तो बिहार के कोने-कोने में बिजली है |

यह भी पढ़ें  बिहार में आज से खुल गई स्कूल कॉलेज बिना मास्क के नहीं मिलेगी एंट्री

वही केंद्र के और से भरोसा दिया जा रहा है की ये समस्या जल्द से जल्द ठीक हो जायेगी | कोयला मंत्री प्रह्लाद जोशी ने बताया की हमलोग इसके पीछे काम कर रहे है | जल्द से जल्द कोयला उपलब्ध हो जायेगी | और सब कुछ पहले जैसा हो जाएगा |