दुनिया में नहीं है पत्नी फिर भी अपने जिंदगी में यादो को जिंदा रखने के लिए बनबा दिया मंदिर

इस दुनिया में जन्म लेना और मरना ये तो प्रकृति क नियम है | अगर कोई अपना किसी का चल बस्ता है तो उसे भुलाना हमारे लिए एक चैलेंज बन जाता है | बहुत लोग को तो सदमा हो जाता है और वो भी इस सदमे को बर्दास्त नहीं कर पाते है | वहीँ कुछ लोग भूलकर अपनी जिंदगी में बीजी हो जाते है | आज इस खबर में एक ऐसे ही बात को बताने वाले है जो बेहद हैरान करने वाले है |

हम बात के रहे हा मध्यप्रदेश में रहने वाले एक परिवार ने अपने घर की महिला की मौत के बाद कुछ ऐसा किया कि अब वह हमेशा उनके साथ ही हैं. दरअसल एक पति ने अपनी पत्नी की मृत्यु के बाद उसकी याद में एक मंदिर बनवा डाला. अब ये मंदिर इन दिनों चर्चा का विषय बना हुआ हैं | ज्यादातर देखने को मिलता हैं कि लोग किसी भगवान या समाजसेवी का मंदिर बनवाते लेकिन इस शख्स ने पत्नि का मंदिर बनवाकर सभी को हैरान कर दिया हैं. ये घटना मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले की हैं | इन्होने अपने दिलो में अपने पत्नी का याद जिंदा रखने के लिए एक मंदिर बनबा दिया |

यह भी पढ़ें  यात्रिगन कृपया ध्यान दे ! बिहार से चलने वाली इन आठ ट्रेन हुआ रद्द, कई के बदले रूट
दुनिया छोड़कर जाने के बाद भी पत्नी साथ रहे, इसलिए पति ने बनवा दिया उसका  मंदिर. – Mahaan Bharat

बता दे की इसकी पत्नी गीताबाई का 27 अप्रैल को कोरोना की दूसरी लहर में निधन हो गया था. दरअसल परिवार वालों ने उन्हें बचाने के लिए पैसों पानी की तरह बहाए थे | लेकिन शायद भगवान को कुछ और ही मंजूर था. माँ के जाने के बाद बच्चों के लिए गम बुलाना आसान नहीं था और वह दिन उदास और गुमसुम बैठे रहते थे. जिसके बाद उनके दिमाग में माँ के नाम से मंदिर बनवाने का विचार आया |

और उन्होंने ये बात अपने पिता को बताई | माँ के निधन के दो दिन बाद 29 अप्रैल को उन्होंने प्रतिभा बनाने का आर्डर दिया था. जिसके बाद लगभग ढेढ महीनें बाद प्रतिभा तैयार हुई थी. बेटों का मानना हैं कि अब मां सिर्फ बोलती नहीं है, हालाँकि हर पल हमारे साथ रहती हैं | हमें अपनी माँ की कमी जब जब भी महशुश होती है तो हम अपने माँ के मूर्ति से गला लगा लेता हू |

यह भी पढ़ें  सवाल : क्या आपको पता है मास्क को हिंदी में क्या कहा जाता है जानिये सही जवाब....