बिहार के बेगुसराय में हो रही है सेब की खेती, 2 बीघा खेत में 15 लाख कमाने का मौका, जानिये तरीका

बिहार में सेव की खेती सुनकर आपको भी हैरानी हुई होगी, हैरानी इस बात की हुई होगी की सेव की खेती तो सिर्फ ठन्डे प्रदेशों में की जा सकती है | लेकिन अब बिहार के किसान का भी सपना होगा साकार कर सकेंगे बिहार में सेव की खेती पहले आप सुनते थे की सेव की खेती कश्मीर शिमला हिमाचल प्रदेश जैसे ठन्डे प्रदेशो में की जाती है | लेकिन अब बिहार के किसानो का भी सपना सच होगा | बिहार में भी सेव की खेती शुरू हो चुकी है | यह बात से आपको हैरानी होती होगी लेकिन सच है बिहार के बेगुसराय के एक किसान सेव की खेती कर रहे है |

अधिक लोगों का यह कहना है सेव तो कम से कम तापमान वाले प्रदेशों में होता है लेकिन बिहार में एक समय में तो बिहार का तापमान 45 डिग्री से भी ऊपर हो जाती है ऐसे में बिहार में सेव की खेती कैसे होती है | तो इके बारे में बिहार के बेगुसराय के किसान अमित का कहना है कि अब बिहार में भी सेव की खेती होगी ऊँचे तापमान पर भी सेव की खेती होगी इसके लिए एक खास किस्म तैयार की गयी है | जिसका नाम हरमन-99 है |

यह भी पढ़ें  बड़ी खबर : बिहार शिक्षा विभाग का एलान अब स्कूल इस टाइम से चलेगी, जानिये बंद होने का नया समय

इसको मुख्य रूप से इसीलिए तैयार किया गया है कि ऊँचे तापमान वाले जगहों पर सेव किखेती आसानी से हो जाए | जैसे : राजस्थान में भी इस वेरायटी का प्रयोग कर सेव की फसल का य्त्पादं किया जा रहा है | और किसानो का कहना है कि यह खेती सफल भी हो रही है | वहीँ बहुत किसानो के मन में रहता है | की यह किस मिट्टी पर उगाई जाती है तो इस बात का भी जवाब अमित बताते है उनका कहना है कि इसको किसी भी मिट्टी पर उगाई जा सकती है | चाहे वह दोमट मिट्टी हो, लाल मिट्टी हो या पथरीली मिट्टी हो। ऐसे में बिहार में भी सेव की खेती की जा सकती है।

यह भी पढ़ें  बिहार में साल 2025 तक बनकर तैयार हो जाएगा चार ओवेरब्रिज का काम लोगों को मिलेगा जाम से निजात

सेव लगाने की क्या है प्रक्रिया :

दोस्तों इस खेती को करने के लिए आपको सबसे पहले गड्ढा खोदना होगा उसके बाद आपको वहां पर रोगनाशक दवा से छिडकाव करनी होगी ताकि उसके आस-पास कोई भी ऐसे कीटाणु या कीड़ा ही टी वह मर जाए और उस पेड़ को ग्रोथ करने में कोई नुक्सान न पंहुचाये | माना जाता है कि इस खेती को करने में सबसे कम खर्च लगते है | बस एक बात का ध्यान रखना होगा कि आपको समय-समय पर सिंचाई करनी होगी |

और बता दे कि इस खास तरह के पौधा को हिमांचल प्रदेश में तैयार किया जाता है | और आप भी सेव की खेती करना चाह रहे है तो आपको भी हिमाचल जाना होगा और हिमाचल से इस पौधा को लाने के बाद तुरंत एक सप्ताह के अन्दर उसको रोप देना होगा | इस काम को बिहार के बेगुसराय निवासी अमित ने अंजाम दिया है |

यह भी पढ़ें  बिहार को मिलेगा हाईस्पीड रोड का सौगात, लगभग 3 हजार करोड़ की लागत से होगा निर्माण