काम की बात : सहारा इंडिया का पैसा कब मिलेगा? सहारा का भुगतान कैसे करायें? जानिये डिटेल्स

दोस्तों पुरे भारत के लोगों ने सहारा के अलग-अलग स्कीम में अपना मेहनत की कमाई इन्वेस्ट किये है | अगर ऐसे में आप या आपके कोई दोस्त पड़ोसी भी सहारा इंडिया में पैसा इन्वेस्ट किये है और उस पैसा का अभी तक कोई खबर नहीं है तो आईये आज हम इस खबर के माध्यम से जानते अहि कि कब मिलेगा पैसा जानते है विस्तार से….

सबसे पहली बात आपको बता दे कि सहारा जब शुरू-शुरू में आई तो पुरे भारत के लोगों ने इसमें अपनी भविष्य को बेहतर बनाने के लिए जमकर पिया निवेश किया लेकिन सहारा इंडिया अब उनलोगों के साथ धोखा कर रही है बता दे कि सहारा कम्पनी के ऊपर लोगों का आरोप है कि मैच्योरिटी पूरा होने के बाबजूद भी पैसा नहीं ग्राहकों को मिल रहा है इसको लेकर न्यायालय में मुकदमा भी चल रही है |

यह भी पढ़ें  Sahara India Update : पैसा वापस पाने के लिए सड़कों पर उतरे निवेशक, जानिये क्या हुआ फिर?

लगभग 25 हजार करोड़ रुपया फंसा है सहारा इंडिया में…..

दरअसल सहारा इंडिया के खाते में पीछले साल के आखिरी महीने दिसम्बर 2021 तक लगभग 25 हजार करोड़ रुपया जमा है | इसे लेकर सुप्रीम कोर्ट में सहारा श्री सुब्रत राय पर मुकदमा भी चल रहा है। लेकिन निवेशकों का पैसा न तो सेबी और न ही सहारा भुगतान कर रहा है। निवेशकों को कोरोना जैसी स्थिति में भी उनका लंबित भुगतान नहीं किया गया, जबकि कई मामलों में निवेशकों के परिवार का मुखिया तक का साया सिर से उठ गया। उन्होंने खूब हंगामा, धरना प्रदर्शन किया, लेकिन सुनवाई कहीं नहीं हुई।

यह भी पढ़ें  सहारा इंडिया प्रमुख सुब्रत रॉय को गिरफ्तार करने लखनऊ पहुंची पुलिस, जानें क्‍या है पूरा मामला?

कब तक मिलेगा पैसा?

जब लोग सहारा के ब्रांच पर जा रहे है तो उन्हें लगातार तारीख पर तारीख दी जा रही है, लेकिन राशि का भुगतान नहीं किया जा रहा है। यह भुगतान कब होगा? इसका किसी को कुछ पता नहीं है। अभी तक सहारा के तरफ से कोई भी अधिकारिक जानकारी नहीं दी गई है कि निवेशकों को इस तिथि को पैसा लौटा दिया जाएगा |

उनका दावा था कि सेबी-सहारा (sebi-sahara) विवाद की वजह से सुप्रीम कोर्ट की ओर से सहारा (sahara group) समूह पर लगाए गए प्रतिबंध से उनकी आय (income) प्रभावित हुई है। उनकी कमाई पर असर पड़ा है। निवेशक (investment) उन्हें नया काम नहीं दे रहे, क्योंकि पुराने भुगतान में देर हो रही है। उन्होंने लाखों कार्यकर्ताओं के बेरोजगारी (unemployment) एवं भुखमरी के कगार पर पहुंचने की बात दोहराई।

यह भी पढ़ें  पटना हाईकोर्ट के बाहर बड़ी संख्या में जुटे सहारा के निवेशकों बोले 'नहीं होता और इंतजार, दिलवा दीजिए फंसे पैसे'